Joshimath Crisis: जोशीमठ को संकट से बचाने के लिए केंद्र का बड़ा प्लान, विशेषज्ञों ने बताया दरारें चौड़ी होने का कारण

Group 13

न्यूज शेयर करें :

हमें फॉलो करें :

Joshimath Crisis:

Center’s big plan to save Joshimath from crisis, experts told the reason for widening cracks

जोशीमठ संकट से पहाड़ी इलाकों में दहशत का माहौल है। सड़क से लेकर घरों तक आ रही दरारों से घरों और व्यापारिक प्रतिष्ठानों पर खतरे के बादल मंडरा रहे हैं. इन दरारों से पानी भी निकलने लगा है, जिससे ऐसे घरों में रहना मुश्किल हो गया है. ऐसी खतरनाक इमारतों को गिराने का काम भी शुरू कर दिया गया है। इन सबके बीच बड़ा सवाल यह है कि जोशीमठ में अचानक चौड़ी-चौड़ी दरारें क्यों फूटने लगीं? जोशीमठ को भविष्य में ऐसे संकट से कैसे बचाया जा सकता है और समय रहते लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया जा सकता है? केंद्र सरकार ने वर्तमान संकट को देखते हुए जोशीमठ में सूक्ष्म भूकंपीय वेधशाला स्थापित करने का निर्णय लिया है, ताकि छोटे से छोटे भूकंप पर भी नजर रखी जा सके और उसके आधार पर उसके प्रभाव का विश्लेषण किया जा सके.

बता दें कि जोशीमठ भूकंप के लिहाज से सबसे खतरनाक जोन-5 में आता है। इसका मतलब है कि इस क्षेत्र में अक्सर भूकंप आते रहते हैं। आमतौर पर लोग उस कंपन को महसूस नहीं कर पाते, लेकिन पहाड़ों और चट्टानों पर इसका बहुत बड़ा असर होता है। इससे तनाव पैदा होता है। ऐसी घटनाओं में धीरे-धीरे वृद्धि होने से प्रभावित क्षेत्रों में इस तनाव के कारण दरारें विकसित हो जाती हैं। जानकारों का मानना है कि जोशीमठ के मौजूदा संकट के लिए यह कारण काफी अहम है. सूक्ष्म भूकंपीय वेधशालाओं के खुलने से भूवैज्ञानिक इस तरह की घटनाओं का विश्लेषण कर सकते हैं और भविष्य के संकटों के बारे में पता लगा सकते हैं। इस प्रकार की समस्या से निपटने के लिए पहले से जानकारी प्राप्त करना एक लंबा रास्ता तय कर सकता है।

डूब रहा जोशीमठ, है कयामत की निशानी! इन 06 तस्वीरों में देखिए जोशीमठ का मंजर कितना भयावह होता जा रहा है

 

 

Leave a Comment